Skip to content Skip to footer
कुंडली में चन्द्र ग्रह प्रतिकूल हो तो चन्द्र ग्रह को अनुकूल बनाने के लिए उपाय-
दान –

चन्द्रमा की प्रीति के लिये घृत कलश, श्वेत वस्त्र, दही, शंख, मोती, स्वर्ण तथा चाँदी का दान करना चाहिये ।

रत्न –

मोती रत्न चन्द्रमा को बलवान् बनाने के लिए पहना जाता है । मोती सीप के मुंह से प्राप्त होता है । इसका रंग सफेद से लेकर हल्का पीला, हलका नीला, हल्का गुलाबी अथवा हल्का काला भी हो सकता है । ज्योतिष लाभ की दृष्टि से इनमें से सफेद रंग उत्तम होता है ।

शुभ प्रभाव – मानसिक शांति तथा सुख सुविधाएं प्रदान करता है ।

धारण – मोती को दायें हाथ की अनामिका या कनिष्का उंगली में सोमवार को धारण करना चाहिए ।

व्रत-

चन्द्र का व्रत 10 सोमवारों तक करना चाहिये । व्रत के दिन श्वेत वस्त्र धारण करना चाहिये । भोजन में बिना नमक के दही, दूध, चावल, चीनी और घी से बनी चीजें ही खाये । इस व्रत को करने से व्यापार में लाभ होता है । मानसिक कष्टों की शान्ति होती है । विशेष कार्य सिद्धि में यह व्रत पूर्ण लाभदायक होता है ।

मंत्र –
  1. वैदिक मन्त्र (जप संख्या- 11000)
ॐ इमं देवा असपत्नः सुवध्वं महते क्षत्राय महते ज्यैष्ठ्याय महते जानराज्यायेन्द्रस्येन्द्रियाय । 
इमममुष्य पुत्रममुष्यै पुत्रमस्यै विश एष वोऽमी सोमोऽस्माकं ब्राह्मणाना राजा ॥

2. बीज मंत्र (जप संख्या- 11000)

ॐ श्रीं श्रीं श्रीं सः चन्द्राय नमः

3. मूल मंत्र (जप संख्या – 11000)

 ॐ चन्द्राय नमः

4. तांत्रिक मंत्र (जप संख्या – 11000)

ॐ घृणिः सूर्याय नमः

5. पौराणिक मंत्र (जप संख्या – 11000)

धरणीगर्भसंभूतं विद्युत्कांतिसमप्रभम् । 
कुमारं शक्तिहस्तं तं मंगलं प्रणाम्यहम् ॥ 
पूजन –

चन्द्र ग्रह को अनुकूल बनाने के लिए पलाश के पौधे का पूजन करना चाहिए ।

यन्त्र –
चन्द्रयन्त्रम्
नागद्विनन्दा गजषट् समुद्रा शिवाक्षिदिग्वाणविलिख्य कोष्ठे ।
चन्द्रकृतारिष्टविनाशनाय धार्यं मनुष्यैः शशियन्त्रमीरितम् ॥
729
664
3105

Add Comment

en_USEN