Skip to content Skip to footer

मेष राशि में केतु हो तो जातक चंचल, बहुभाषी, सुखी होता हैं।

वृष राशि में केतु हो तो जातक दुखी, निरुद्यमी, आलसी, वाचाल होता हैं।

मिथुन राशि में केतु हो तो जातक वार्ताकारी, अल्प सन्तोपी, दाम्भिक, अल्पायु, क्रोधि होता हैं।

कर्क राशि में केतु हो तो जातक वातविकारी, भूत-प्रेत पीडित, दुःखी होता हैं।

सिंह राशि में केतु हो तो जातक बहुभाषी, डरपोक, असहिष्णु, सर्प दर्शन का भय, कलाविज्ञ होता हैं।

कन्या राशि में केतु हो तो जातक सदा रोगी, मूर्ख, मन्दाग्निरोगी, व्यर्थवादी होता हैं।

तुला राशि में केतु हो तो जातक कुष्ठरोगी, कामी, क्रोधी, दुःखी होता हैं।

वृश्चिक राशि में केतु हो तो जातक क्रोधी, कुष्ठरोगी, घूर्त्त, वाचाल, निर्धन, व्यसनी होता हैं।

धनु राशि में केतु हो तो जातक मिथ्यावादी, चंचल, घूत्रं होता हैं।

मकर राशि में केतु हो तो जातक प्रवासी, परिश्रमशील, तेजस्वी, पराक्रमी होता हैं।

कुम्भ राशि में केतु हो तो जातक कर्णरोगो, दुःखी , भ्रमणशील, व्ययशील, सावर्ण-वनी होता हैं।

मीन राशि में केतु हो तो जातक कर्णरोगो, प्रत्रासी, चंचलऔर कार्यपरायण होता हैं।

Add Comment

en_USEN