Skip to content Skip to footer
मासे तु शुक्ला प्रतिपत्प्रवृत्ते पूर्वे शशी मध्यवलो दशाहे ।
श्रेष्ठा द्वितीयेऽल्पवलस्तृतीये सौम्यैस्तु दृष्टो वलवान्सदैव ॥

मध्यबली- शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से शुक्ल पक्ष की दशमी तक चन्द्र मध्यबली होता है।

पूर्णबली- शुक्ल पक्ष की एकादशी से कृष्ण पक्ष की पञ्चमी तक चन्द्र पूर्णबली होता है।

अल्पबली – कृष्ण पक्ष की षष्ठी से अमावस्या तक अल्पबली होता है।

शुभ ग्रह की दृष्टि होने से सर्वदा बलवान् रहता है।

Add Comment

en_USEN