Skip to content Skip to footer

सामुद्रिक शास्त्र भारत की बहुत प्राचीन विद्या है। सामुद्रिक शास्त्र का अध्ययन क्षेत्र अत्यन्त व्यापक है, इसमें शरीर लक्षणों के साथ ही हस्त विज्ञान का भी अध्ययन होता है । हस्तविज्ञान का अपना कुछ वैशिष्ट्य है प्रातः काल में हथेलियों का दर्शन करना हमारे यहाँ पुण्यदायक, मंगलप्रद तथा तीर्थों के सेवन-जैसा माना गया है । अतः सुबह उठते ही हथेलियों को देखने की परम्परा है ।

कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती । करमूले स्थितो ब्रह्मा प्रभाते करदर्शनम् ॥
समुद्रवसने देवि पर्वतस्तनमण्डिते । विष्णुपत्नि नमस्तुभ्यं पादस्पर्शं क्षमस्व मे ॥

मातृरेखा, पितृरेखा और आयुरेखा क्रमश: गंगा, यमुना और सरस्वती हैं । इसलिये  हथेलियों के दर्शन से त्रिवेणी दर्शन हो जाता है । रेखाओं-अंगों को देखकर भूत, भविष्य, वर्तमान के  सभी शुभाशुभ फल जाने जा सकते हैं । मणिबन्ध से अँगुष्ठ और तर्जनी के  बीच जो रेखा गयी है, उसे पितृरेखा या गोत्र रेखा कहते हैं । अंगुष्ठ एवं तर्जनी के मध्य जाने वाली रेखा मातृ रेखा या धन रेखा है । तीसरी आयु रेखा को जीवित या तेज रेखा कहते हैं । तीनों रेखाएँ किसी के हाथ में सम्पूर्ण और निर्दोष हों तो वे गोत्र, धन एवं आयु की वृद्धि बताती हैं । पितृरेखा को ऊर्ध्व लोक, मातृरेखा को मृत्यु लोक आयु रेखा को पाताल लोक कहते हैं । पितृरेखा के ब्रह्मा, मातृ रेखा के स्वामी विष्णु आयु रेखा के स्वामी शिव हैं । इन्द्र, यम, वरुण कुबेर-हथेली के दिशाओं के स्वामी हैं । पितृरेखा बाल्यावस्था, मातृरेखा तरुणावस्था तथा आयुरेखा वृद्धावस्था बताती है ।

Add Comment

en_USEN