Skip to content Skip to footer

योगिनी दशा आठ प्रकार की होती है –

1 मंगल

2 पिंगला

3 धान्या

4 भ्रामरी

5 भद्रिका

6 उल्का

7 सिद्धा

8 संकटा

जन्म नक्षत्र  की संख्या में 3 जोड़कर 8 का भाग देने पर जो शेष बचे, उसके अनुसार जन्म के समय आरम्भ में योगिनी दशा होती है।

शुभ योगिनी दशा- मंगला, धान्या, भद्रिका, सिद्धा ।

अशुभ योगिनी दशा- पिगला, भ्रामरी, उल्का, संकटा ।

Add Comment

en_USEN