Skip to content Skip to footer

उत्पत्ति-अनुसार-रत्न-भेद

1. वानस्पतिक रत्न :

यह विशेष वृक्षों की जड़ व तने से प्राप्त होते है। 

जैसे – कहरूवा, अश्मीभूत आदि । 

2. पाषाण रत्न :

चट्टानों, शिलाखण्डों, खानों तथा नदियों से प्राप्त रत्न पाषाण रत्न कहलाते हैं। 

जैसे – हीरा, नीलम, माणिक्य, अकीक आदि । 

3. जैविक रत्न : 

जलीय जीवों से प्राप्त रत्न जैविक रत्न होते हैं।

जैसे – मोती, हाँती दांत, सीप आदि । 

Add Comment

en_USEN