Skip to content Skip to footer
कुंडली में शुक्र ग्रह प्रतिकूल हो तो शुक्र ग्रह को अनुकूल बनाने के लिए उपाय –
दान –

शुक्र ग्रह की शान्ति के लिये चित्रित सुन्दर वस्त्र, चावल, घी, स्वर्ण, धन, हीरा, सुगन्धित दिव्य पदार्थ तथा श्रृंगार-सामग्री एवं सवत्सा श्वेत गौ [स्फटिक, कपूर, शर्करा, मिश्री एवं दही इत्यादि] का दान करना चाहिये ।

रत्न –

हीरा रत्न शुक्र को बलवान बनाने के लिए धारण किया जाता है हीरा रत्न रंगहीन तथा साफ़ पानी की तरह दिखता हैं ।

शुभ प्रभाव – सांसरिक सुख-सुविधा, ऐश्वर्य, मानसिक प्रसन्नता प्रदान करता है ।

धारण – हीरा रत्न को दायें हाथ की मध्यमा उंगली में शुक्रवार को धारण करना चाहिए ।

व्रत –

शुक्र का व्रत 21 शुक्रवारों तक करना चाहिये । श्वेत वस्त्र धारण करना चाहिये । भोजन में चावल, चीनी, दूध, और घी से बने पदार्थ का भोजन करे । इसे करने से सुख-सौभाग्य और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है ।

मंत्र –
  1. वैदिक मन्त्र (जप संख्या – 16000)
ॐ अन्नात्परिस्त्रुतो रसं ब्रह्मणा व्यपिबत् क्षत्रं पय: सोमं प्रजापति:।
ऋतेन सत्यमिन्द्रियं विपानं शुक्रमन्धस इन्द्रस्येन्द्रियमिदं पयोऽमृतं मधु।।

2. बीज मंत्र (जप संख्या – 16000)

ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः

3. मूल मंत्र (जप संख्या – 16000)

ॐ शुक्राय नमः

4. तांत्रिक मंत्र (जप संख्या – 16000)

ॐ शुं शुक्राय नमः

5. पौराणिक मंत्र (जप संख्या – 16000)

हिमकुंदमृणालाभं दैत्यानां परमं गुरुम् । 
सर्वशास्त्रप्रवक्तारं भार्गवं प्रणमाम्यहम् ॥
पूजन –

शुक्र ग्रह को अनुकूल बनाने के लिए उदुम्बर की पूजा की जाती है ।

यन्त्र –
शुक्रयन्त्रम्
रुद्राङ्गविश्वा रविदिग्गजाख्या नगामनुश्चाङ्कक्रमाद्विलेख्याः ।
भृगोः कृतारिष्टविनाशनाय धार्यं हि यन्त्रं मुनिना प्रकीर्तितम् ॥
11613
12108
7149

Add Comment

en_USEN